अभी हाल में

:


विजेट आपके ब्लॉग पर

गुरुवार, 1 जनवरी 2009

गाँव में अफसर

उस तरह नहीं आता गाँव में अफसर
जैसे आती है बिटिया हुलसकर ससुराल से
या नई दुल्हन लाँघते आशंकाओं के पहाड़


उस तरह तो बिल्कुल नहीं
जैसे हाट बाजार से भकुआये हुए
आजकल लौटते हैं काका
और वैसे भी नहीं
जैसे छुटि्टयों में लौटते हैं कमासुत।



न पगलाई नदी की बाढ़ सा उफनता
न इठलाता पुरवा की मदमस्त बयारों सा
जेठ की उन्मत्त लू या सावनी फुहारों सा भी नहीं
अफसर तो बस अफसर सा आता है गाँव में !



सीम पर पड़ते हैं पाँव
और नगाड़े सी गूँज जाती है धमक
धरती की शिराओं में
मुस्कुराता है तो हँसने लगती है चौपाल
और तनते ही भृकुटियों के
सूख जाते हैं हरे भरे ताल



माथे की लकीरों से मुचमुचाये कुरते की
काई सी नीली जमीन
संवारते अगियाए लोटे से
गुनते हैं चौकीदार जुगत
बरसों से ठहरी
पांच सौ की रकम बढ़ाने की सिफारिश की
लाज आती है अब जिसे पगार कहते



मुर्गे के साथ हलाल कर
कई सारे अंखुआते स्वप्न
रोपता है कोई
बंजर होती जा रही उम्र पर
किसी गलीज सी नौकरी की उम्मीद



संदूक की सात परतों से निकालते हुए दहेजू बर्तन
और पुरखों से माँगते हुए क्षमा
जुटाते हैं सरपंच
अगली किस्तों के भुगतान की शर्तें



सन्निपात सा उभर आता है पूरा गाँव
मन में डर और उम्मीदें
आँखों में घिघियाती अर्ज़ियाँ लिये



समय का सवर्ण है अफसर
ढाई कदमों में नाप लेता है
गाँव का ब्रह्माण्ड


कलम की चार बूँद स्याही मे
समेट लेता है
नदी का सारा जल
वायु का सारा सन्दल
मिट्टी की सारी उर्वरा
मनष्य की सारी मेधा !



........................और फिर
इस तरह जाता है गांव से अफसर
जैसे मरूस्थल की भयावह प्यास में
आँखों से मायावी सागर

10 comments:

Bahadur Patel ने कहा…

priy ashok bhai,
bahut achchhi kavitayen post kar rahe ho. ganv me afasar tumhari bahut hi satik kavita hai jisame bimbon ka behatarin istemal kiya gaya hai.
उस तरह नहीं आता गाँव में अफसर
जैसे आती है बिटिया हुलसकर ससुराल से
या नई दुल्हन लाँघते आशंकाओं के पहाड़
ab dekhiye kavita ki shuruaat hi mahtvpurn hai. beti ki tarah afasar nahin aata hai. yane yahan yah bhi mahtvpurn hai ki afasar ko beti tarah aana chahiye. is vyvastha ko badalane ki darkar hai. kis-kis tarah se aana chahiye ye bhi agali panktiyon me prabhavi dhang se aata hai.
yane is kavita ek-ek pankti ke gahare arth nikalate hai.
bhasha itani jabardast, prabhavi aur pravahman hai ki kya kahane.
bahut-bahut badhai mere bhai khoob likho.

Bahadur Patel ने कहा…

ek baat to rah gai yaar.
jitendra ki kavita par tippani dekar lot aaye.achchha laga.
par mere bhai gehoon ki bali par meri kavita pita ki mrityu par beti ka rudan bhi jaroor padha len.

dr. ashok priyaranjan ने कहा…

शब्दों के माध्यम से भाव और िवचार का श्रेष्ठ समन्वय िकया है आपने ।

आपको नववषॆ की बधाई । नया आपकी लेखनी में एेसी ऊजाॆ का संचार करे िजसके प्रकाश से संपूणॆ संसार आलोिकत हो जाए ।

मैने अपने ब्लाग पर एक लेख िलखा है-आत्मिवश्वास के सहारे जीतें िजंदगी की जंग-समय हो तो पढें और कमेंट भी दें-

http://www.ashokvichar.blogspot.com

हिमांशु ने कहा…

अच्छी शब्दावली में प्रभावी अभिव्यक्ति प्रस्तुत की है आपने इस कविता में. सबसे मारक पन्क्तियां जो बेध डालती हैं मेरा मन -
"इस तरह जाता है गांव से अफसर

जैसे मरूस्थल की भयावह प्यास में

आँखों से मायावी सागर"

इस बहुमूल्य कविता के लिये धन्यवाद.

sandhyagupta ने कहा…

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !!

सुशील कुमार ने कहा…

‘गाँव में अफसर’अशोक कुमार पाण्डेय की लोक की भाषा में पगी एक ऐसी कविता है जो जनतन्त्र में जड़ें जमायी सामंती प्रवृति से पाठक का साक्षात्कार कराती है। प्रस्तुत कविता में सौंदर्य प्रयुक्त बिम्बों के सफल प्रयोग के कारण निखरकर पाठक को उद्वेलित करता है।कविता के केन्द्र में वह स्थिति है जो आज भी तन्त्र की विफलता का कारक बनी हुयी है,वही है ..ब्युरोक्रेसी या कहें छिपी हुई ज़मीनदारी का रोब। इसी को मैं कहता हूँ संघर्ष की कविता। यह मध्यमवर्गीय संस्कार से नहीं लिखी जा सकती। आज ऐसी ही कविता की जरुरत है जो पूँजी से फलित शोषण की प्रवृति के विरुद्ध एक जनमानस को रचने में अपनी भूमिका अदा कर सके। उस दृष्टि से इस अच्छी कविता के लिये उनको धन्यवाद।-सुशील कुमार,दुमका।

sandhyagupta ने कहा…

.................और फिर
इस तरह जाता है गांव से अफसर
जैसे मरूस्थल की भयावह प्यास में
आँखों से मायावी सागर

Gramin yatharth aur afsarsahi ko samagrata se abhivyakt karti ek jivant rachna.

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

शुक्रिया आप सबका

mahinder pal ने कहा…

shuru ki dono kavitaein padhi buhut hi achhi hein .kuchh kho sa gaya kuchh der tak . badhai aur shubhkamnaein unke liye bhi jo abhi tumhari kalam se janm lene vali hein .

intelligence ने कहा…

chloe purse
chloe paddington handbag
chloe uk
dior
christian dior

जिन्होंने सुविधा नहीं असुविधा चुनी!

फेसबुक से आये साथी

 
Copyright (c) 2010 असुविधा.... and Powered by Blogger.