अभी हाल में

:


विजेट आपके ब्लॉग पर

गुरुवार, 30 अगस्त 2012

पंकज मिश्र की दो कवितायें



पंकज भाई से परिचय पुराना है। गोरखपुर में जब मैं दिशा छात्र संगठन में गया तो वह संगठन छोड़ चुके थे, पर शहर में मेल-मुलाकातें होती रहीं। फिर ग्वालियर में एक दिन। लेकिन ढंग से मुलाक़ात हुई फेसबुक के माध्यम से। वहीँ उनके कवि रूप से भी परिचित हुआ।

अभी उन्होंने नील आर्मस्ट्रांग को केंद्र में रखकर लिखी ये दो कवितायें पढने के लिए भेजीं  तो  मैंने अधिकारपूर्वक असुविधा के लिए ले लीं. इन्हें पढ़ते हुए आप देखेंगे कि अपनी गहरी राजनीतिक समझदारी के चलते चाँद पर उतरने के पूरे घटनाक्रम को उन्होंने एक ऐसे बिम्ब में बदल दिया है जिसके झरोखे से पूँजी के खेल को देखा जा सकता है. पंकज भाई का असुविधा पर स्वागत और यह उम्मीद की आगे भी वह हमें अपनी कवितायें उपलब्ध करायेंगे 


(एक ) गुरुत्वाकर्षण कम था
या धरती से मोह भंग
पता नहीं .......

मेरा ही कोई दोस्त था .....नील आर्म स्ट्राँग
लंबे लंबे डग भरता
निकल गया
मैं तकता रह गया
उम्मीद के उस टुकड़े को
जो कभी चाँद सा चमकता था
गहरी उदास रातों में
निकलता नैराश्य के अँधेरे गर्त से
उजास की तरह
और फ़ैल जाता
चला गया एक दिन

हाँ , खबर तो यही थी
तस्वीर भी छपी थी
उस रोज
कि मेरे उसी दोस्त ने
झंडा गाड़ दिया
मेरे चाँद पे ,
उसकी धरती ने जीत लिया
मेरा चाँद

यहाँ ,
चिलचिलाती धूप में
कोई झंडा नहीं दीखता
दीखता है
सगुन का बांस
उसपे फहराता झंडा
जिसे कभी गाडा था हमने .....
कुआं खोदने के बाद
गाँव में ...

हम बदल रहे थे
धरती का रंग
वो जीत रहा था
एक बंजर जंग
वो आसमां से भी ऊँची
छलांगें लगा रहा था ,
और हम जमीन पर
चल रहे थे
वो बदल चुका था
और हम ,
बदल रहे थे
वो बूझ रहा था पहेलियाँ
हम जिन्दा सवाल हल कर रहे थे 

(दो) नील ! जब से तुम्हारे
पाँव पड़े हैं चाँद पर
तब से ही कहीं लापता है
वो चरखा चलाती बुढ़िया
कहाँ गयी होगी .....
किसी अन्य ग्रह पर
या होगी यहीं कहीं , पृथ्वी पर
कांपते हाथों से फूल चढाते
उस बूढ़े की समाधि पर
जो जीवन भर कातता रहा सूत
चलाता रहा चरखा........
स्मृतियाँ खींच लाई हो उसे पृथ्वी पर
तो क्या बुढ़िया को
ये भी पता चल चुका है !
कि उसके बूढ़े को मारने वाला
अब तक फरार है ,
उस की तलाश में
कहाँ कहाँ भटकेगी ,
साबरमती तट तक भी
क्या वो जायेगी
जहां ले रखी है उसने शरण
आजकल
तो क्या नील
तुम ने उसे सब कुछ बता दिया ......

या फिर ऐसा
तो हो ही सकता है
इतिहास दोहराने की कोशिश की हो तुमने
निर्जन चाँद पर बदहवास जान हथेली पर लेकर
तुम्हारी नज़रों से बच बचा कर
चोरी छिपे सवार हो गयी हो यान में
और आ गयी हो पृथ्वी पर
खड़ी हो वहीं
करबद्ध , संपीडित स्वजनों में
आँखों की कोरों में बांधे
शताब्दियाँ का ज्वार ,दुर्निवार
स्टेच्यु ऑफ लिबरटी के गिर्द
शोक सभा में .........

कि पता चला चुका हो उसे नील
तू कोलंबस का ही वंशज है
और चाँद पृथ्वी के बाद
अमरीका का दूसरा उपग्रह है........

22 comments:

शायक आलोक ने कहा…

सटायर में कचोट की मात्रा जब ज्यादा होती है तब ऐसी लाजवाब अभिव्यक्तियाँ सामने आती हैं.. इस कविता में खिंची हुई एक लकीर मिटाते नहीं दीखते कवि न ही उनका आग्रह इस लकीर से लम्बी लकीर खींचने का है..वे तो बस एक समनांतर लकीर खिंच देते हैं उस लकीर के बगल में.. इन कविताओं में नील आर्मस्ट्रोंग और कवि की सोच के बीच कोई बनाम कोई वर्सेस नहीं रखा गया है जो मुझे सबसे बढ़िया लगा.. दूसरी कविता की अंतिम चार पंक्तियाँ तो पूंजीवाद/उपनिवेशवाद का पूरा इतिहास ही बता देतीं हैं.. पहली कविता में से ये पंक्तियाँ.. '' कि मेरे उसी दोस्त ने
झंडा गाड़ दिया
मेरे चाँद पे '' ...... '' जिसे कभी गाडा था हमने .....
कुआं खोदने के बाद
गाँव में .. ''....

संध्या ने कहा…


एक बेहतरीन कविता के लिए पंकज को बधाई

कुलदीप "अंजुम" ने कहा…

बेहद ख़ूबसूरत और दमदार कवितायेँ हैं.....कोई बोझिलपन नहीं ....बेहद उम्दा !

कुलदीप "अंजुम" ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
mukti ने कहा…

और चाँद पृथ्वी के बाद
अमेरिका का दूसरा उपग्रह है.

क्या बात है?

Bipin Sharma ने कहा…

शानदार कविताएं! आप दोनों को बधाई.

Bipin Sharma ने कहा…

शानदार कविताएं! आप दोनों को बधाई.

Santosh ने कहा…

जोरदार है भाई ! नंबर दो कविता ने तो गजब मार मचाई है ! सटीक व्यंग और वो भी मारक और ऊपर से कविता के भाव में..कुल मिला के बहुते शानदार और जानदार ! कवि का बहुत बहुत आभार!

Aharnishsagar ने कहा…

पंकज सर को पढना हमेशा कुछ नया दे जाता ..बहुत सधी हुई कविता करते हैं वे ...आपको बधाई सर ..!

ramji ने कहा…

बेहतरीन ...

asmurari ने कहा…

अच्छी कवितायेँ हैं... इस सन्दर्भ में पंकज सर की ही कविता एंटीलिया की याद आ रही है.... ख़ास बात यह है कि इनकी कवितायेँ माथापच्ची की मांग नहीं करती समझने- समझाने के लिए .....

asmurari ने कहा…

पूँजी की सत्ता के रहस्यों को खोलती पंकज मिश्र जी की कवितायेँ बड़ी प्रभावकारी हैं... उनकी एक अन्य कविता की याद आ रही है--एंटीलिया ....सबसे अच्छी बात है कि इनकी कवितायों को समझे- समझाने के लिए अतिरिक्त माथापच्ची की जरुरत नहीं पड़ती है...

GAURAVA ने कहा…

ACHHI KAVITA ...BADHAI

Onkar ने कहा…

एक अलग दृष्टिकोण

pradeep saini ने कहा…

तो क्या बुढ़िया को
ये भी पता चल चुका है !
कि उसके बूढ़े को मारने वाला
अब तक फरार है ,
उस की तलाश में
कहाँ कहाँ भटकेगी ,
साबरमती तट तक भी
क्या वो जायेगी
जहां ले रखी है उसने शरण
आजकल
शानदार कवितायेँ ........ क्या कुछ नहीं कहती ये कवितायेँ ........ कवि की नज़र से न साम्राज्यवाद की साजिश छिपी है न धार्मिक कट्टरता की ........ गांधी के हत्यारे वाला ट्विस्ट कविता को किसी और ही ऊँचाई पर ले जाता है | असुविधा का आभार |

kathakavita ने कहा…

मेरी माँ के विश्वास में चाँद

श्रीमान नील आर्मस्ट्रांग
आपने अपने पाँव रखे थे चाँद पर
यह बात अपनी माँ को मैंने बहुत समझाई
लेकिन मेरी माँ ने विश्वास नहीं किया
उसके विश्वास में चाँद एक देवता

जीवन में सद के लिए
माँ अर्ग चढ़ाती आई चाँद को।

भविष्य में मानव चाँद पर बस्तियाँ बसाना चाहता है
यह बात मेरी माँ को स्वीकार नहीं

मेरी माँ के अनुसार -
चाँद में बैठी है चाँद की माँ
अनवरत् सूत कातती
जिसको उसका बेटा चाँद
अंबर से अंधेरे की खिड़की खोल
पृथ्वी पर बुरकाता
सफेद मुलायम महीन रेशे
धरती के लिए सुख।

श्रीमान नील आर्मस्ट्रांग
अब नहीं रही हैं मेरी माँ
और मैंने आप वाली बात में पूरा विश्वास धरा

पर एक अन्य सच भी कह दूँ
जब कभी देखता हूँ भरपूर चमकता चाँद
माँ वाली बात कि
चाँद पृथ्वी पर सफेद मुलायम महीन रेशे बुरकाता है
धरती के लिए सुख
मुझमें असीम आनंद का जाल बुनती।

kathakavita ने कहा…

ऊपर गलती से मेरी कविता बगैर निम्न टिप्पणी के लग गई है , जो गलती से उसके साथ नहीं लगा पाया ..'असुविधा' पर मेरी इस असुविधा के लिए खेद है-
पंकज भाई की ये कविताएँ .पूंजीवादी-सत्ता की बदमाशी से मानवीय जीवन में उपजी विद्रूपताओं व विडम्बना को मर्म व अपनी तल्खी से कह दिया है ...
मेरी भी इस सन्दर्भ पर एक कविता है जो थोड़ा सा अलग होकर देख रही है , कुछ दिन पहले उसे मैंने अपने फेस बुक वाल पर भी लगाया था ,आप लोगो से शेयर करने का लोभ नहीं छोड़ पा रहा हूँ -

Pummy ने कहा…

वाह...ज़बरदस्त......खास कर चाँद को अमेरिका का दूसरा उपग्रह बताने वाली बात ने तो झखझोर कर रख दिया...

ashvaghosh ने कहा…

बहुत धारदार लहजे में सही जगह मार की गयी है.बहुत अच्छी लगी आप की कवितायेँ,व्यंग्य का सधा स्वर दूसरी कविता में तो गज़ब ढा रहा है

A B Gupta ने कहा…

वाह! लाजवाब कवितायें....पूंजी, धर्म, आस्था और मानव की जिजीविषा सबसे रूबरू!

धन्यवाद् अशोकजी

Ajmer Hotels ने कहा…

this line very nice,,,,,,,,,,

Andaman Holidays ने कहा…

this is the very encourage to us.......

जिन्होंने सुविधा नहीं असुविधा चुनी!

फेसबुक से आये साथी

 
Copyright (c) 2010 असुविधा.... and Powered by Blogger.