अभी हाल में

:


विजेट आपके ब्लॉग पर

रविवार, 5 अगस्त 2012

रुखसत हुआ तो आँख मिलाकर नहीं गया- शहजाद अहमद को एक श्रद्धांजलि

चला गया वो सितारे खैरात करने वाला अदब का अज़ीम खिदमतगार
  • कुलदीप अंजुम

रुखसत हुआ तो आँख मिलाकर नहीं गया 
वो क्यूँ गया है ये भी बताकर नहीं गया 
यूँ लग रहा है जैसे अभी लौट आयेगा
जाते हुए चिराग बुझाकर नहीं गया 
बस इक लकीर खेंच गया दरमियान में 
दीवार रास्ते में बनाकर नहीं गया 
शायद वो मिल ही जाये मगर जुस्तजू है शर्त 
वो अपने नक़्शे पा तो मिटाकर नहीं गया
घर में हैं आजतक वही खुशबू बसी हुई 
लगता है यूँ कि जैसे वो आकर नहीं गया
रहने दिया न उसने किसी काम का मुझे 
और खाक में भी मुझको मिलाकर नहीं गया 

अगर उर्दू अदब में आपकी जरा सी भी दिलचस्पी है तो आप शहजाद अहमद के नाम से ज़रूर वाकिफ होंगे.  इस महबूब शायर का पिछले दिनों अगस्त १ २०१२ बुधबार को इंतकाल हो गया . ३१ जुलाई को दफ्तर से लौटते वक़्त उन्हें दिल का दौरा पड़ा और अगले दिन इस महान फनकार ने हमारा साथ छोड़ दिया. करीब बीस साल पहले उन्हें पहली दफे दिल का दौरा पड़ा था पर उस समय वक़्त उनके साथ था . अपने आखिरी दिन तक वो "मजलिसे तरक्की ए अदब" के डारेक्टर के तौर पर काम कर रहे थे .ये ओहदा उन्हें किब्लह अहमद नदीम कासमी साहब की अचानक मौत के बाद सौंपा गया था . आप इसी से अंदाज़ा लगा सकते हैं की शहजाद अहमद का कद क्या था और वो किस विरासत को साथ लेकर चल रहे थे . .तकरीबन तीस किताबें छपीं. जिनमें  कुछ तर्जुमा और कुछ फिलासफी से सम्बंधित थी पर ताउम्र उनका जोर उर्दू पोएट्री पर ही रहा . पाकिस्तानी सरकार ने उन्हें देश के सबसे बड़े सिविल अवार्ड "प्राइड ऑफ परफार्मेंस(तमगा ए हुस्न ए करकरदगी)" से भी नवाज़ा .शहजाद अहमद की सबसे खास बात ये उन्होंने बुजुर्ग और नई नस्ल के बीच लिंक की तरह काम किया .उनके कलाम को इक तरफ जहाँ अदब के जनाब करों ने सराहा वही दूसरी ओर मजमे में भी उन्हें ग़ज़ल की मकबूलियत हासिल थी .अदब का ये अज़ीम खिदमतगार १६ जुलाई १९३२ के दिन अमृतसर में पैदा हुआ था .१९५६ में गवर्मेंट कालेज लाहोर से फिलॉसफी और साइकोलॉजी में डिग्री हासिल की . गोरा रंग , मीठी जुबान और साफ दिल उनकी शख्सियत का हिस्सा थे ...उनका पहला मजमुआँ 'सदफ' १९५८ में शाया हुआ ! 

इतने बड़े शायर को कुछ पन्नों में समेटने की कोशिश नादानी होगी .फिर भी कुछ अशआर जो खासतौर पर मुझे पसंद हैं उनके मार्फत उस महान शायर को याद करने की कोशिश करते हैं-

गुजरने ही न दी वो रात मैंने
घडी पर रख दिया था हाथ मैंने 
फलक की रोक दी थी मैंने गर्दिश 
बदल डाले थे सब हालात मैंने 
फलक कशकोल लेके आ गया था 
सितारे कर दिए खैरात मैंने

शहजाद साहब की कही मेरी सबसे पसंदीदा ग़ज़ल .. 

शऊरे जात ने ये रस्म भी निबाही थी 
उसी को क़त्ल किया जिसने खैर चाही थी 
तुम्ही बताओ मैं अपने हक में क्या कहता 
मेरे खिलाफ भरे शहर की गवाही थी 
कई चरागनिहाँ थे चराग के पीछे
जिसे निगाह समझते हो कमनिगाही थी 
तेरे ही लश्करियों ने उसे उजाड़ दिया
वो सरज़मी जहाँ तेरी बादशाही थी
इसीलिए तो ज़माने से बेनियाज़ था मैं 
मेरे बजूद के अन्दर मेरी तबाही थी 
तेरी जन्नत से निकाला हुआ इन्सान हूँ मैं 
मेर ऐजाज़ अज़ल ही से खताकारी है 
दो बलायें मेरी आँखों का मुकद्दर ‘शहजाद’ 
एक तो नींद है और दूसरे बेदारी है 
ग़ज़ल की खूबसूरती के लिहाज़ से इस ग़ज़ल की भला क्या मिसाल दी जा सकती है... 


वो मेरे पास है क्या पास बुलाऊँ उसको 
दिल में रहता है कहाँ ढूंढने जाऊँ उसको 
आज फिर पहली मुलाकात से आगाज़ करूँ
आज फिर दूर से ही देखकर आऊँ उसको 
चलना चाहे तो रखे पाँव मेरे सीने पर 
बैठना चाहे तो आँखों पे बिठाऊँ उसको 
वो मुझे इतना सुबुक इतना सुबुक लगता है
कभी गिर जाये तो पलकों से उठाऊँ उसको 

पाकिस्तान ने अपना एक फिक्रमंद शायर खो दिया ये बात उनके इन दो अशआरों से ज़ाहिर हो जाती है ...जो मैंने अलग -अलग गजलों से चुने हैं ! 

मेरा कायद मेरी सोई हुई मिल्लत से कहता है
बस अब तो नीद से जागो खुदारा दिन निकल आया 
यहाँ जुलूस है फरियाद करने वालों का 
जो सबसे आगे हैं वो आदमी यजीद का है 
वो मुल्क बेंचते हैं असलाह खरीदते हैं 
ये कारोबार हर इक दायमी यजीद का है 
शहजाद अहमद ने जब दुनिया ऐ अदब में कदम रखा उस दौर में तरक्कीपसंद ग़ज़ल अपने पूरे शबाब पर थी . गज़ल के अमूमी रंग और घिसे पिटे मौज़ुआत से ग़ज़ल को आजाद करने वालों में से एक नुमायाँ नाम शहजाद अहमद का भी है . पचास की दहाई में मंज़रे आम पर आने वली पहली नसल के काफिले में अहमद फ़राज़ , मुनीर नियाजी , ज़मीलुद्दीन आली ,महशर बद्युनी, जौन एलिया ,नासिर काज़मी और शहजाद अहमद जैसे नाम शामिल थे. इक तरफ जहाँ जौन दुसरे शायरों के साथ तरक्की पसंद अदब के झंडाबरदार थे तो वहीँ शहजाद अहमद ज़फर इकबाल के साथ ज़दीद उर्दू ग़ज़ल का दामन थामे हुए थे. शहजाद अहमद की रोशन खयाली उन्हें औरो से जुदा करती है .

शहजाद अहमद बुनियादी तौर पर रूमान पसंद शायर थे. शुरूआती दौर में वो इसी रूप में मकबूलियत हासिल करते रहे बाद में उनके कहे में तमाम और फिक्र-ओ- फन शामिल हो गए . शहजाद अहमद को आज तक वह मुकाम आज तक नहीं मिला जिसके वह सही में हक़दार थे.  आँखों को सीपियाँ सिर्फ शहजाद अहमद ही कह सकते थे. 

शबे गम को सहर करना पड़ेगा
बहुत लम्बा सफ़र करना पड़ेगा
सबा नेज़े पे सूरज आ गया है
ये दिन भी अब बसर करना पड़ेगा 
ये आंखें सीपियाँ हैं इसलिए भी
हर आंसू को गोहर करना पड़ेगा
उसे रुखसत ही क्यूँ होने दिया था 
ये गम अब उम्र भर करना पड़ेगा 
कहा तक दरबदर फिरते रहेंगे 
तुम्हारे दिल में घर करना पड़ेगा 
अभी तक जिसपे हम पछता रहे हैं  
वही बारे दिगर करना पड़ेगा 
मुहब्बत में तुम्हे जल्दी बहुत है 
ये किस्सा मुक्तसर करना पड़ेगा 
बहुत आते हैं पत्थर हर तरफ से 
शज़र को बेसमर करना पड़ेगा 
अज़ाबे जाँ सही तरके ताल्लुक 
करेंगे हम अगर करना पड़ेगा 
शहजाद अहमद ज़दीद और तरक्की पसंद दोनों के बीच से इंसानियत की बात करने वालों में से थे ....इंसानी फितरत ..दुखदर्द और इंसानी मसाइल की बातें उनके कलाम का अहम् हिस्सा हैं

ज़लाया था मैंने दिया किसलिए 
बिफरने लगी है हवा किसलिए 
अगर जानते हो की तुम कौन हो
उठाते हो फिर आइना किसलिए 
जो लिखा हुआ है वो होना तो है 
उठाते हो दस्ते दुआ किसलिए 
इसी काफिले का मुसाफिर हूँ मैं 
मेरा रास्ता है जुदा किसलिए 
बहुत मुख्तलिफ थी मेरी आरज़ू 
मुझे ये ज़माना मिला किसलिए 
भरी अंजुमन में अकेला हूँ मैं
मगर ये नहीं जानता किसलिए 
मैं ‘शहजाद’ हर्फे गलत हूँ तो फिर
मुझे उसने रहने दिया किसलिए
शायद ही किसी ने गुलाम अली साहब की आवाज़ में इस मशहूर ग़ज़ल को न सुना हो

अपनी तस्वीर को आँखों से लगाता क्या है
एक नज़र मेरी तरफ देख तेरा जाता क्या है 
मेरी रुसवाई में तू भी है बराबर का शरीक
मेरे किस्से मेरे यारों को सुनाता क्या है 
पास रहकर भी न पहचान सका तू मुझको 
दूर से देखकर अब हाथ हिलाता क्या है 
सफरे शौक में क्यूँ कांपते हैं पाँव तेरे
आंख रखता है तो फिर आँख चुराता क्या है 
उम्र भर अपने गरीबां से उलझने वाले
तू मुझे मेरे ही साये से डराता क्या है 
मर गए प्यास के मारे तो उठा अबरे करम 
बुझ गयी बज़्म तो अब शम्मा ज़लाता क्या है 
मैं तेरा कुछ भी नहीं हूँ मगर इतना तो बता 
देखकर मुझको तेरे ज़ेहन में आता क्या है 
तुझमे कुछ बल है दुनिया को बहाकर लेजा
चाय की प्याली में तूफ़ान उठाता क्या है
तेरी आवाज़ का जादू न चलेगा उनपर 
जागने वालो को शहजाद जगाता क्या है  

ईमाँ को एक बार भी जुम्बिश नहीं हुई 
सौ बार कूफ़ियों के कदम डगमगा गए 
हम इस ज़मीन को लाये हैं आसमानों से 
और इन्तिखाब किया है कई ज़हानो से
यही जबाब मिला अब वतन ही सब कुछ है 
बहुत सवाल किये हमने नुक्तादानों से 
खुदा से उसका करम मांगते हैं हम शहजाद 
चलें तो आगे निकल जाएँ कारवानो से
 
जो शज़र सूख गया है वो हरा कैसे हो
मैं पयम्बर तो नहीं मेरा कहा कैसे हो 
जिसको जाना ही नहीं उसको खुदा क्यूँ मानें 
और जिसे जान चुके हैं वो खुदा कैसे हो
दूर से देखके मैंने उसे पहचान लिया
उसने इतना भी नहीं मुझसे कहा कैसे हो 
वो भी एक दौर जब मैंने उसे चाहा था 
दिल का दरवाज़ा है हर वक़्त खुला कैसे हो 
उम्र सारी तो अँधेरे में नहीं कट सकती
हम अगर दिल न जलाएं तो ज़िया कैसे हो
जिससे दो रोज भी खुलकर न मुलाकात हुई 
मुद्दतों बाद मिले भी तो गिला कैसे हो 

शहजाद साहब उर्दू अदब में अपने नए बिम्ब और कहाँ के साथ आये

अब तक उसकी मुहब्बत का नशा तारी है 
फूल बाकी नहीं खुशबू का सफ़र जारी है 
आज का फूल तेरी कोख से ज़ाहिर होगा 
शाखे दिल खुश्क न हो अबके तेरी बारी है
ध्यान भी उसका है मिलते भी नहीं हैं उससे 
जिस्म से बैर है साये से वफादारी है 
इस तगो ताज में टूटे हाँ सितारे कितने
आसमा जीत सका है न ज़मी हारी है 
कोई आया है अभी आंख तो खोलो शहजाद
अभी जागे थे अभी सोने की तैयारी है 

धूप निकली है तो बदल की रिदा मांगते हो 
अपने साये में रहो गैर से क्या मांगते हो
अरसा ऐ हश्र में बक्शिश की तमन्ना है तुम्हे 
तुमने जो कुछ न किया उसका सिला मांगते हो 
उसको मालूम है शहजाद वो सब जानता है 
किसलिए हाथ उठाते हो दुआ मांगते हो 
तय हमसे किसी तौर मुसाफत नहीं होती
नाकाम पलटने की भी हिम्मत नहीं होती 
चोरी की तरह जुर्म है दौलत की हवस भी
वो हाथ कटें जिनसे सखावत नहीं होती 
जिंदानिओं क्यूँ अपना गला कट रहे हो 
मरना तो रिहाई की ज़मानत नहीं होती
जो तूने दिया है वही लौटायेंगे तुझको 
हमसे तो इमानत में खयानत नहीं होती 
किस बेतलबी से मैं तुझे देख रहा हूँ
जैसे मेरे दिल में कोई हसरत नहीं होती 

ये सोचकर की तेरी ज़वीं पर न बल पड़े 
बस दूर ही से देख लिया और चल पड़े 
ऐ दिल तुझे बदलती हुई रुत से क्या मिला 
पौधों में फूल और दरख्तों में फल पड़े 
सूरज सी उसकी तबा है शोला सा उसका रंग 
छू जाये उस बदन को तो पानी उबल पड़े 

बहुत ख़राब किया ख्वाहिशाते दुनिया ने 
ज़रा ज़रा से ये बुत बन गए खुदा मेरे 
ये दुश्मनों से नहीं जात से लड़ाई है
किसी भी काम न आयेंगे दस्तो पा मेरे 
तू दोस्तों की तरह फासला न रख इतना 
हरीफ है तो फिर आ पास बैठ जा मेरे 
ये और बात कि मैं बज़्म में अकेला हूँ 
बहुत करीब ही बैठे हैं आशना मेरे 
वो रौशनी थी कि मैं कुछ न देख पाया था
कल आफ़ताब बहुत ही करीब था मेरे 
अब न वो शोर है न शोर मचाने वाले 
खाक से बैठ गए खाक उड़ाने वाले 
दिल से वहशी कभी काबू में न आया यारों 
हार कर बैठ गए जाल बिछाने वाले 

आरज़ू की बेहिसी का गर यही आलम रहा 
बेतलब आएगा दिन और बेखबर जाएगी रात 
शाम ही से सो गए हैं लोग आँखे मूंदकर 
किसका दरवाज़ा खुलेगा किसके घर जाएगी रात 

जल भी चुके परवाने हो भी चुकी रुसवाई
अब खाक उड़ाने को बैठे हैं तमाशाई 
अब दिल को किसी करवट आराम नहीं मिलता 
एक उम्र का रोना है दो दिन की शनासाई 
इस खौफ से इक उम्र हमें नींद न आई 
इक चोर छुपा बैठा है सीने की गुफा में 
इक नूर का सैलाब है बंद आँखों के अन्दर !
लिपटे हुए चेहरे हैं अँधेरे की रिदा में !! 

शहजाद अहमद का जाना उर्दू अदब के लिए कितना बड़ा नुकसान है इसका अंदाज़ा नहीं लगाया जा सकता .....उनके साथ उर्दू ग़ज़ल का इक मज़बूत स्तम्भ (ज़दीद ग़ज़ल का आखिरी) भी ढह गया.

12 comments:

राजेश उत्‍साही ने कहा…

सलाम।

' मिसिर' ने कहा…

पाकिस्तान के मक़बूल शायर शहजाद अहमद पर एक विस्तृत आउट खूबसूरत आलेख ! कुलदीप अंजुम साहब को बधाई और अशोक जी का आभार !

shahbaz ने कहा…

शहज़ाद अहमद साहब शहरयार साहब के बहुत ही पसंदीदा शायरों में से थें.. दोनों के यहाँ कुछ ख़ास किस्म के बिम्ब आते हैं... रात के, सूरज के, प्यास के... दोनों के कहन की शैली भी एक जैसी है..

अच्छा लेख है.. कुलदीप भाई को बधाई. असुविधा का आभार..

Santosh ने कहा…

महबूब शायर को कुलदीप अंजुम जी ने बेहतरीन तरीके से याद किया है ..इसी बहाने हमें भी उनके अशार पढने को नील गया ...असुविधा और कुलदीप जी का आभार

Sid ने कहा…

फूल बाकी नहीं खुशबू का सफ़र जारी है ...

Premchand Gandhi ने कहा…

कुलदीप अंजुम जी ने शहजाद साहब को उनकी तारीखी ग़ज़लों के जरिये बहुत शिद्दत से याद किया है। उनकी याद को सलाम...

Jagjit ने कहा…

kuldeep anjum ji ka bahut sunder aalekh.....kuldeep ji aur ashok ji ko bahut bahut badhayi.....

Prabhat Ranjan ने कहा…

बहुत अच्छा लिखा है. शहजाद अहमद की स्मृति को प्रणाम

miracle5169@gmail.com ने कहा…

bahut shukriya , mai to kata'ee anjaan tja bavujud isake ki "jal bhee chukr parwane" meri pasandadeedah gajzl hai.

dinesh tripathi ने कहा…

शहजाद साहब पर महत्त्वपूर्ण जानकारी साझा करने के लिए आत्मीय अनुज कुलदीप को बधाई . आलेख सुन्दर बन पड़ा है . असुविधा का आभार

कुलदीप "अंजुम" ने कहा…

आप सबको बेहद शुक्रिया और आभार .....अशोक भाई को विशेष शुक्रिया.....वो वाकई बड़े शायर थे ...लोग आज नहीं समझे कल जरूर समझेंगे ....अल्लाह उन्हें जन्नत में जगह दे !

Akash Rawat ने कहा…

आपका बेहद शुक्रिया और
आभार को विशेष
शुक्रिया वो वाकई बड़े शायर
थे ।

जिन्होंने सुविधा नहीं असुविधा चुनी!

फेसबुक से आये साथी

 
Copyright (c) 2010 असुविधा.... and Powered by Blogger.