अभी हाल में

:


विजेट आपके ब्लॉग पर

शुक्रवार, 24 जुलाई 2009

हमारे समय में

(यह कविता कोई सात साल पहले लिखी गयी थी और उस समय अक्षर पर्व में प्रकाशित भी हुई थी। पता नहीं क्यूआज इसे पोस्ट करने का जी हुआ)






हमारे समय में
शेर
खतरनाक से दयनीय में
तब्दील हो चुका है
और मनुष्यों की सारी चिंता
जानवरों के इर्द गिर्द सिमट गयी है।

हमारे समय में
अराजनीतिक होना
महान राजनीतिग्य होने की
सबसे ज़रूरी शर्त है
और गरीबी हटाने का
सर्वमान्य तरीका
सबसे रईसों को और रईस बनाना है

हमारे समय में कविता
बंद कमरे में सिसकती औरत है
और बंधी मुट्ठी
सस्ती राजनीति

यानी
यह बिलकुल सही समय है
सबकुछ उलट-पुलट देने का

12 comments:

‘नज़र’ ने कहा…

सत्य से ओत-प्रोत कविता!
---
विज्ञान । HASH OUT SCIENCE

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

सही कह रहे हैं अशोक
यह कविता सात साल पहले की है
अब तो प्रतिमान बदल चुके हैं
कविता बंद कमरे में सिसकती औरत नहीं
ब्‍लॉग पर दहाड़ती पोस्‍ट है
जिसका टिप्‍पणियां गोस्‍त हैं।

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

सच्ची और सीधी कविता। बधाई!

neera ने कहा…

यथार्थ और सच्चाई एक साथ परसी हुई!

रंगनाथ सिंह ने कहा…

हमारे समय में
अराजनीतिक होना
महान राजनीतिग्य होने की
सबसे ज़रूरी शर्त है
-
sau fisad shi kahaa h...

sandhyagupta ने कहा…

यानी
यह बिलकुल सही समय है
सबकुछ उलट-पुलट देने का

Kavita purani bhale ho par aprasangkik katai nahin.

समय ने कहा…

बेबाक कविता।
उम्दा इशारे॥

प्रदीप कांत ने कहा…

हमारे समय में कविता
बंद कमरे में सिसकती औरत है
और बंधी मुट्ठी
सस्ती राजनीति

यानी
यह बिलकुल सही समय है
सबकुछ उलट-पुलट देने का

- यथार्थ और सच्चाई एक साथ

yuva ने कहा…

यह बिलकुल सही समय है
सबकुछ उलट-पुलट देने का

bahut hee achchhi prastuti. Aur kavita kabhee puranee nahi hoti sandarbh ho sakte hain.

साहिल ने कहा…

kavita
kavita hoti hai
nayi ya purani nahi hoti
samay ko vyakt karta ek bayaan hoti hai
chubhan hoti hai
jo purane gaav me se bhi risti hai kabhi-kabhi
aage badhte kadmon me
pichhli galtiyon ko yaad rakhne ki
kahaani hoti hai kavita

bahut kuchh hote hue
aur bhi bahut kuchh ho sakti hai
kavita
kavita hoti hai.

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

... सुन्दर रचना !!!

विभाव ने कहा…

इस रचना को सिर्फ सुंदर कह कर नहीं टाला जा सकता। इसके कारणों की समीक्षा जरूरी है, इलाज के रास्तों की तलाश जरूरी है।

जिन्होंने सुविधा नहीं असुविधा चुनी!

फेसबुक से आये साथी

 
Copyright (c) 2010 असुविधा.... and Powered by Blogger.