अभी हाल में

:


विजेट आपके ब्लॉग पर

गुरुवार, 11 अक्तूबर 2012

मलाला के लिए चिट्ठी


जानते हैं न आप मलाल युसुफ़जाई को? वही बच्ची जो रावलपिंडी के एक हस्पताल में मौत और ज़िंदगी के बीच संघर्ष कर रही है...वही बच्ची जो तालिबानी हत्यारों से अपने पढने के हक के लिए लड़ रही थी...कल एक पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा में औरतों की इज्जत बचाने का तरीका यह है कि उनकी शादी उस उम्र में कर दो जो पढने-लिखने की होती है, उससे पहले किसी पुलिस अधिकारी ने कहा था कि लड़कियों के साथ बलात्कार इसलिए होता है कि वे आधुनिक कपडे पहनती हैं...किसने सोचा था कि आज़ादी के सात दशक बीतते न बीतते सीमा के दोनों पार औरतों के इतने हत्यारे पैदा हो जायेंगे.

खैर यह वक़्त उस बहादुर लड़की के लिए दुआ करने का है. उसके संघर्ष से एकजुटता दिखाने का है...हमारी फेसबुक मित्र आभा मोंढे निवसरकर ने यह कविता उसके नाम की है...


मलाला
तुम्हें मैंने सुना है
कॉर्नफ्लेक्स में दूध पर केला काट कर डालते समय
जब तुम ग्यारह साल में
खौलते खून के साथ
खुले आम भाषण दे रही थीं
उन लड़कियों की याद में
जो अपने स्कूल की तरह कहीं राख हुई
किसी बच्चे को गोद में लिए
कोई पन्ना चूल्हे में डाल रही होंगी
मैं ठंडे यूरोप में स्मार्ट फोन पर तुम्हें देख रही थी
मलाला
मैं तुम्हारी जगह ले ही नहीं पाऊंगी.

जिस समय उन दाढ़ी वाली लोगों ने
तुम्हारे सिर और गले पर गोली मारी
तो वह सिर्फ तुम्हारा मुंह और दिमाग बंद करना चाहते थे
वो कुछ और कर भी नहीं सकते मलाला
क्योंकि उनके दिमाग और गले पहले ही बंद हैं

मलाला
मैं जिसे सब मिला है
वो सिर्फ महसूस कर सकती है
तुम्हारा संघर्ष, तुम्हारी जिद
मलाला... तुम जियो
और हर लड़की का दिमाग बनो
यही तमन्ना है

13 comments:

kailash ने कहा…

malala banane ki chaaht ko isi tarah failaya jana chahiye taki band dimaag khole ja sake

देवयानी भारद्वाज ने कहा…

मलाला... तुम जियो
और हर लड़की का दिमाग बनो
यही तमन्ना है

पंकज मिश्रा ने कहा…

मलाला की बात चाहे जिस विधा में हो जन् जन् तक पहुंचनी ही चाहिए आपके प्रयास को सलाम और मलाल के हौसले को लाल सलाम .........आज इसे प्रचारित प्रसारित करने से चूके तो न जाने कितनी म्लालाओं की भ्रूण हत्या के भागी होंगे

फरहान अंसारी ने कहा…

मुल्लाह्शाही के आखिरी वक्त की शुरआत हो गई है, कोई बदजात ही होगा जिसका दिल न दुख होगा .. इंसान तो सब तडपे हैं

शंभू यादव ने कहा…

जिस समय उन दाढ़ी वाली लोगों ने
तुम्हारे सिर और गले पर गोली मारी
तो वह सिर्फ तुम्हारा मुंह और दिमाग बंद करना चाहते थे
वो कुछ और कर भी नहीं सकते मलाला
क्योंकि उनके दिमाग और गले पहले ही बंद हैं.......

प्रगतिशील ताकतों के कमजोर हो जाने से, ताकियानुस ताकतें विश्व भर में फिर जोर मार रही हैं। पाताल् लोक में धंसी खाप पंचायतें तरह-तरह के फतवे गढ़ रही हैं। यहाँ पुरुष वर्चस्वशाली कमीनीगीरी का सबसे ज्यादा जोर स्त्रियों पर आजमाईश हो रहा है। उन्हें तिमिर से भरे गहरे विविरों में धकेला जा रहा है।
मलाला का संघर्ष सामंती हथकंडों के खिलाफ़ लड़ने की मजबूती देता है ।
इस बच्ची के सिर में गोली मारी गयी है , उसकी रीढ़ की हड्डी में गोली फंसी हैं ...ऑपरेशन किया गया है ...आओ हम कामना करें वह जल्द से जल्द ठीक हों।

प्रदीप कांत ने कहा…

जिस समय उन दाढ़ी वाली लोगों ने
तुम्हारे सिर और गले पर गोली मारी
तो वह सिर्फ तुम्हारा मुंह और दिमाग बंद करना चाहते थे
वो कुछ और कर भी नहीं सकते मलाला
क्योंकि उनके दिमाग और गले पहले ही बंद हैं
______________________________


मलाला... तुम जियो
और हर लड़की का दिमाग बनो
यही तमन्ना है
_______________________________

उनके दिमाग़ बन्द नही बल्कि दूसरी दिशा में काम करते हैं विनाश की दिशा में और उसके विपरीत ही मलाला चाहिये

साहिल ने कहा…

मलाला

नहीं मिली शिक्षा
तो क्या बिघडता है तेरा

तुम्हे थोडेही करनी है
सृष्टिकी रचना
वो तो पहलेही की है
पैगंबरने

तुम्हे थोडेही बनाने है
चाँद सूरज ग्रह तारे
वो भी है तैयार रेडीमेड
किसी मॉलमें जाएगी तो
फेस्टिवल सेल चल रहे है
खरीद ले जीतने जी चाहे

तुम्हे क्यों सिखाना है
इतिहास और भूगोल
हम बतलाएँगे तुम्हे
जो बतलाने लायक है

करेगी क्या
गणित और शास्त्र सीखके
ये बत्तमीजी
हमें बिलकुल पसंद नहीं

देख तेरे पुर्वजोंकी ओर
कितने शान से जिए
अमरिका के पैरोमे गिरकर
एक दूसरेको कत्ल किया
जहाँ बताया गया
वहाँ बम विस्फोट किये
जवां बूढी ऐसा भेदभाव
न किया

इसीको जिहाद करार दिया गया
यह सब देखकर अल्ल्हामियाने उनको
डायरेक्ट जन्नतमें एन्ट्री दिलादी

और तू
बद्जात औरत
बदलना चाहती है
इस सबको
नये निर्माण कि सोच
रखती है
पढ़ना चाहती है
किस मिटटी की बनी है
उपर जाके अल्लामियां को
हमे जवाब देना है

खैर
तेरा वजूदही नापाक है
और आज कल
उपरवालेकी आवाजभी
AK47 है

alaknanda sane ने कहा…

तो वह सिर्फ तुम्हारा मुंह और दिमाग बंद करना चाहते थे
वो कुछ और कर भी नहीं सकते मलाला...
लाजवाब....ईश्वर उस बच्ची को लम्बी उम्र दें...

दीपिका रानी ने कहा…

लाजवाब... काश ऐसे भाव उन भेंड़ियों के दिलों को छू पाते।

KESAR KYARI........usha rathore... ने कहा…

Malala tum jina tum jina mlala .....Tum jiyogi ... jikar bhi aur mar kar bhi ..... bhut malala h yaha ... unki aawaj bnogi tum

KESAR KYARI........usha rathore... ने कहा…

Malala tum jina tum jina mlala .....Tum jiyogi ... jikar bhi aur mar kar bhi ..... bhut malala h yaha ... unki aawaj bnogi tum

रश्मि ने कहा…

तो वह सिर्फ तुम्हारा मुंह और दिमाग बंद करना चाहते थे
वो कुछ और कर भी नहीं सकते मलाला...शानदार...मलाला...जि‍ओ...लड़ो तुम..

Divya Prakash Srivastava ने कहा…

जिनसे बड़े बड़े देशों की ताकतवर फौज नहीं लड़ पायी, उसे १४ साल की बच्ची ने धुल चटा दी. आतंकवाद का अंत बंदूकें नहीं कर सकती.
जिस दिन हर हाथ में कलम आ जाएगी उसी दिन दुनिया से आतंकवाद ख़त्म हो जायेगा.
मलाला की फैलाई हुयी जन चेतना, इंशाल्लाह जल्दी इस धरती को फिर से जन्नत बना देगी.

जिन्होंने सुविधा नहीं असुविधा चुनी!

फेसबुक से आये साथी

 
Copyright (c) 2010 असुविधा.... and Powered by Blogger.