अभी हाल में

:


विजेट आपके ब्लॉग पर

बुधवार, 9 फ़रवरी 2011

मजाज़ की वह अविस्मरणीय नज़्म

ब्युकोवस्की की कविता का अनुवाद करने के बाद उसे यहां-वहां से पढ़ता रहा और इस दौरान मजाज़ बेतरह याद आते रहे…हमारा अपना बोहेमियन शायर…पेश है उनकी बेहद प्रसिद्ध नज़्म 'आवारा' और 'नौजवान ख़ातून से'



आवारा
शहर की रात और मैं, नाशाद-ओ-नाकारा फिरूँ
जगमगाती जागती, सड़कों पे आवारा फिरूँ
ग़ैर की बस्ती है, कब तक दर-ब-दर मारा फिरूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


झिलमिलाते कुमकुमों की, राह में ज़ंजीर सी
रात के हाथों में, दिन की मोहिनी तस्वीर सी
मेरे सीने पर मगर, चलती हुई शमशीर सी
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


ये रुपहली छाँव, ये आकाश पर तारों का जाल
जैसे सूफ़ी का तसव्वुर, जैसे आशिक़ का ख़याल
आह लेकिन कौन समझे, कौन जाने जी का हाल
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


फिर वो टूटा एक सितारा, फिर वो छूटी फुलझड़ी
जाने किसकी गोद में, आई ये मोती की लड़ी
हूक सी सीने में उठी, चोट सी दिल पर पड़ी
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


रात हँस – हँस कर ये कहती है, कि मयखाने में चल
फिर किसी शहनाज़-ए-लालारुख के, काशाने में चल
ये नहीं मुमकिन तो फिर, ऐ दोस्त वीराने में चल
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


हर तरफ़ बिखरी हुई, रंगीनियाँ रानाइयाँ
हर क़दम पर इशरतें, लेती हुई अंगड़ाइयां
बढ़ रही हैं गोद फैलाये हुये रुस्वाइयाँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


रास्ते में रुक के दम लूँ, ये मेरी आदत नहीं
लौट कर वापस चला जाऊँ, मेरी फ़ितरत नहीं
और कोई हमनवा मिल जाये, ये क़िस्मत नहीं
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


मुंतज़िर है एक, तूफ़ान-ए-बला मेरे लिये
अब भी जाने कितने, दरवाज़े है वा मेरे लिये
पर मुसीबत है मेरा, अहद-ए-वफ़ा मेरे लिए
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


जी में आता है कि अब, अहद-ए-वफ़ा भी तोड़ दूँ
उनको पा सकता हूँ मैं ये, आसरा भी छोड़ दूँ
हाँ मुनासिब है ये, ज़ंजीर-ए-हवा भी तोड़ दूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


एक महल की आड़ से, निकला वो पीला माहताब
जैसे मुल्ला का अमामा, जैसे बनिये की किताब
जैसे मुफलिस की जवानी, जैसे बेवा का शबाब
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


दिल में एक शोला भड़क उठा है, आख़िर क्या करूँ
मेरा पैमाना छलक उठा है, आख़िर क्या करूँ
ज़ख्म सीने का महक उठा है, आख़िर क्या करूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


मुफ़लिसी और ये मज़ाहिर, हैं नज़र के सामने
सैकड़ों चंगेज़-ओ-नादिर, हैं नज़र के सामने
सैकड़ों सुल्तान-ओ-ज़बर, हैं नज़र के सामने
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


ले के एक चंगेज़ के, हाथों से खंज़र तोड़ दूँ
ताज पर उसके दमकता, है जो पत्थर तोड़ दूँ
कोई तोड़े या न तोड़े, मैं ही बढ़कर तोड़ दूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


बढ़ के इस इंदर-सभा का, साज़-ओ-सामाँ फूँक दूँ
इस का गुलशन फूँक दूँ, उस का शबिस्ताँ फूँक दूँ
तख्त-ए-सुल्ताँ क्या, मैं सारा क़स्र-ए-सुल्ताँ फूँक दूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ


जी में आता है, ये मुर्दा चाँद-तारे नोंच लूँ
इस किनारे नोंच लूँ, और उस किनारे नोंच लूँ
एक दो का ज़िक्र क्या, सारे के सारे नोंच लूँ
ऐ ग़म-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ

नौजवान ख़ातून से
हिजाबे फतना परवर अब उठा लेती तो अच्छा था।
खुद अपने हुस्न को परदा बना लेती तो अच्छा था
तेरी नीची नजर खुद तेरी अस्मत की मुहाफज है।
तू इस नश्तर की तेजी आजमा लेती तो अच्छा था
यह तेरा जर्द रुख, यह खुश्क लब, यह वहम, यह वहशत।
तू अपने सर से यह बादल हटा लेती तो अच्छा था
दिले मजरुह को मजरुहतर करने से क्या हासिल?
तू आँसू पोंछ कर अब मुस्कुरा लेती तो अच्छा था
तेर माथे का टीका मर्द की कस्मत का तारा है।
अगर तू साजे बेदारी उठा लेती तो अच्छा था
तेरे माथे पे यह आँचल बहुत ही खूब है लेकिन।
तू इस आँचल से एक परचम बना लेती तो अच्छा था

8 comments:

मनोज पटेल ने कहा…

ऐ गम-ए-दिल क्या करूँ, ऐ वहशत-ए-दिल क्या करूँ
बिना गुनगुनाए पढ़ना मुश्किल हो गया अशोक जी, धन्यवाद !

' मिसिर' ने कहा…

अशोक जी मेरी पहले की पढी हुई है लेकिन इसे जितनी बार पढो ,नयी ही लगती है !
धन्यवाद आपको इसे फिर से याद दिलाने के लिए !
एक जगह टाइपिंग मिस्टेक हुई है ,सुधार लें ----------

अब भी जाने कितने, दरवाज़े है (वहां)मेरे लिये
कोष्ठक में दिया शब्द 'वहां' की जगह 'वा' है जिसका अर्थ 'खुला' होता है !

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

शुक्रिया अरुण जी…सुधार दिया है।

rashmi ravija ने कहा…

तेरे माथे पे यह आँचल बहुत ही खूब है लेकिन।
तू इस आँचल से एक परचम बना लेती तो अच्छा था।

क्या बात है...शुक्रिया इतनी सुन्दर नज्में पढवाने का

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (10/2/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
http://charchamanch.uchcharan.com

iqbal abhimanyu ने कहा…

मजाज और उनकी इस नज़्म से मुलाकात पिछले दिनों जेएनयू में उनकी याद में हुए एक कार्यक्रम में हुई...उनको और पढना चाहता हूँ..उर्दू भी सीखना चाहता हूँ. देखिये कब तक हासिल हो पाता है.

परमेन्द्र सिंह ने कहा…

मजाज़ की दोनों नज़्में बेहद ख़ूबसूरत ! आपने उनकी प्रतिनिधि कविताओं का चयन किया। दोनों मुझे बेहद पसन्द हैं। इन्हें जगजीत सिंह ने भी बड़ी ख़ूबसूरती से अली सरदार ज़ाफरी के सीरियल ‘कहकशां’ के लिए गाया था। उन्हें बार-बार सुनता रहा हूँ। ‘असुविधा’ पर उन्हें पढ़कर अच्छा लगा। आभार।

नवनीत पाण्डे ने कहा…

मुफ़लिसी और ये मज़ाहिर, हैं नज़र के सामने
सैंकडों चंगेज़-ओ-नादिर, हैं नज़र के सामने....

वाह! क्या कमाल बय़ां किया है मज़ाज़ साहब ने

जिन्होंने सुविधा नहीं असुविधा चुनी!

फेसबुक से आये साथी

 
Copyright (c) 2010 असुविधा.... and Powered by Blogger.