अभी हाल में

:


विजेट आपके ब्लॉग पर

सोमवार, 13 मई 2013

असुविधा टाकीज़ : लव इन द टाइम आफ कॉलरा


कॉलरा की चपेट में प्रेम
विजय शर्मा


किसी साहित्यिक कृति पर फ़िल्म बनाना एक बहुत बड़ा जोखिम है। किसी विश्वप्रसिद्ध साहित्यिक कृति पर फ़िल्म बनाना और बड़ा जोखिम है। कोलम्बियन नोबेल पुरस्कृत लेखक गैब्रियल गार्षा मार्केस इस बात से परिचित थे कि अक्सर फ़िल्म बनते ही साहित्यिक कृति का सत्यानाश हो जाता है। इसी कारण उन्होंने काफ़ी समय तक निश्चय किया हुआ था कि वे अपनी कृतियों पर फ़िल्म बनाने का अधिकार भूल कर भी किसी को नहीं देंगे। उनके प्रसिद्ध उपन्यास वन हंड्रेड इयर्स ऑफ़ सोलिट्यूड’ पर फ़िल्म बनाने के लिए उन्हें एक बहुत बड़ी रकम की पेशकश की गई। काफ़ी समय तक वे टस-से-मस नहीं हुए, अपनी जिद पर अड़े रहे। उनका एक और प्रसिद्ध उपन्यास है लव इन द टाइम ऑफ़ कॉलरा’। इसके फ़िल्मीकरण के लिए निर्देशक उनके चक्कर लगा रहे थे। वे इसके लिए भी सहमत न थे। 

इस विश्व प्रसिद्ध उपन्यास में फ़रमीना डाज़ा और फ़्लोरेंटीनो अरीज़ा का प्रेम तब प्रारंभ हुआ था जब वह १३ साल की और वह १८ साल का था। मगर जैसा कि अक्सर होता है लड़की के नवढ़नाढ्य पिता को लड़के का स्टेट्स अपने बराबर का नहीं लगा। उसने अपनी बेटी को काफ़ी समय के लिए दूर अपने कस्बे में भेज दिया। लड़की लौटती है और अपने पिता की मर्जी के डॉ. जुवेनल उर्बीनो से शादी करती है। दोनों का दाम्पत्य ऊपर से देखने पर बड़ा सुखी नजर आता है। अंदर उसमें तमाम विसंगतियाँ है। यह एक अनोखे प्रेम की अनोखी कहानी है जिसे मार्केश ने अपने माता-पिता के जीवन के आधार पर रचा है। (विस्तार के लिए विजय शर्मा का कथाक्रम प्रेम विशेषांक में प्रकाशित लेख देखा जा सकता है)


फ़्लोरेंटीनो अरीज़ा फ़रमीना डाज़ा को भूला नहीं है। हाँ, इस गम को भुलाने के लिए वह कई लड़कियों, स्त्रियों से शारीरिक संबंध बनाता है। वह इन संबंधों का रिकॉर्ड भी रखता है जिसकी संख्या ६२२ तक पहुँचती है। आधी सदी बीत चुकी है जब डॉ. उर्बीनो की एक दुर्घटना में मृत्यु हो जाती है। यह फ़रमीना डाज़ा के वैध्व्य की प्रथम रात्रि है जब फ़्लोरेंटीनो अरीज़ा अपने प्रेम का पुन: इजहार करने पहुँचता है। वह वियोग के एक-एक दिन का हिसाब रखे हुए है और बताता है कि ५१ साल नौ महीने और चार दिन के बाद उसे यह अवसर मिला है। उपन्यास बताता है कि अब तक फ़्लोरेंटीनो अरीज़ा रिवर बोट कम्पनी का मालिक बन चुका था और वह अपनी प्रेमिका को लेकर जलयात्रा पर निकलता है।

प्रोड्यूसर स्कॉट स्टेनडोर्फ़ ने तय किया कि वे मार्केस के उपन्यास लव इन द टाइम ऑफ़ कॉलेरा’ पर फ़िल्म बनाएँगे। इसके लिए उन्होंने मार्केस को घेरना शुरु किया। मार्केस राजी न हों। तीन साल तक मार्केस से अनुनय-विनय करते रहने के बाद अंत में स्कॉट स्टेनडोर्फ़ ने साफ़-साफ़ कह दिया कि जैसे फ़्लोरेंटीनो अरीज़ा ने फ़रमीना डाज़ा का पीछा नहीं छोड़ा था वैसे ही वे भी मार्केस का पीछा नहीं छोड़ने वाले हैं। हार कर मार्केस ने अपने उपन्यास पर फ़िल्म बनाने की अनुमति स्कॉट स्टेनडोर्फ़ को दे दी। निर्देशन का काम किया एक जाने-माने फ़िल्म निर्देशक माइक नेवेल ने। और इस तरह १९८८ में लिखे गए उपन्यास पर २००७ में फ़िल्म रिलीज़ हुई। फ़िल्म पूर्व प्रदर्शन के समय मार्केस उपस्थित थे। फ़िल्म की समाप्ति पर उन्होंने चेहरे पर मुस्कान लिए हुए केवल एक शब्द कहा "Bravo!"  

उपन्यासकार ने फ़िल्म देख कर ब्रावो!’ कहा, लेकिन फ़िल्म देख कर दर्शकों पर क्या प्रभाव पड़ता है? यदि आपने पुस्तक पढ़ी है तो पहली बार में फ़िल्म जीवंत और तेज गति से चलती हुई लगती है। अगर पुस्तक नहीं पढ़ी है तो बहुत सारी बातें बेसिर-पैर की लगती हैं। दर्शक उपन्यास की गूढ़ बातों से वंचित रहता है। नायिका की मुस्कान उसका लावण्य दर्शकों को लुभाता है। उसकी डिग्निटी देख कर उसके प्रति मन में आदर का भाव उत्पन्न होता है। प्राकृतिक दृश्य बहुत कम हैं मगर सुंदर हैं, आकर्षित करते हैं। फ़िल्म का रंग संयोजन मन भावन है। फ़िल्म देखने में आनंद आता है। कारण फ़िल्म की गति और उसकी जीवंतता है। पर जब दूसरी बार आप समीक्षक की दृष्टि से इसे देखते हैं तो यह आपको उतनी प्रभावित नहीं करती है।

यह सही है कि साहित्य और फ़िल्म दो भिन्न विधाएँ हैं और उनके मानदंड भी भिन्न है। चलिए इस वजह से लव इन द टाइम ऑफ़ कॉलरा’ उपन्यास और लव इन द टाइम ऑफ़ कॉलरा’ फ़िल्म की तुलना नहीं करते हैं। जब सिर्फ़ फ़िल्म को लें तो पाते हैं कि जिस दर्शक ने पुस्तक नहीं पढ़ी है उसके पल्ले क्या पड़ेगा? उसके पल्ले पड़ेगा एक ऐसा हीरो जो कहीं से कंविंसिंग नहीं लगता है। उसका हेयर स्टाइल, उसका झुका हुआ बॉडी पोस्चर, उसकी मुस्कान एक कॉमिक इफ़ैक्ट पैदा करती है। वैसे यह कोई नया एक्टर नहीं है। जेवियर बारडेम को इसके पहले नो कंट्री फ़ॉर ओल्डमैन’ के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का ऑस्कर पुरस्कार मिल चुका है मगर यहाँ कुछ तो गड़बड़ हो गई है। दोष किसे दिया जाए उनके मेकअप मैन को या जिसने उनकी विग डिजाइन की या उसको जिसने उनकी मूछें और ड्रेस बनाई, या फ़िर निर्देशक को जिसने उनकी ऐसी कल्पना की, आखीर फ़िल्म तो उसी की आँख से बनती है। ठीकरा किसी के सिर फ़ोड़ा जा सकता है लेकिन बारडेम की एक्टिंग और मुस्कान फ़्लोरेंटीनो अरीज़ा के रूप में प्रभावित नहीं करती हैं। ठीक है वह एक निम्न आर्थिक स्तर, क्लर्क ग्रेड के लड़के के रूप में जीवन प्रारंभ करता है। बाद में जब वह रिवर बोट कम्पनी का मालिक बन जाता है तब भी उसकी चाल-ढ़ाल में कोई परिवर्तन नहीं आता है, वह वैसा ही झुक कर रहता है। सबसे खराब प्रभाव डालती है उसके चेहरे पर चिपकी उसकी मुस्कान। इस मुस्कान के चलते वह एक क्लाउन नजर आता है, डाई हार्ट प्रेमी नहीं, जैसा कि मार्केस ने उसे दिखाने का प्रयास किया है। वैसे उपन्यास में वह ठीक इसी रूप में चित्रित है। (फ़्लोरेंटीनो अरीज़ा का रूप-रंग-बाना देखने योग्य है, मौसम कोई हो मगर उसकी पोषाक तय है। एक उपयोगी और गंभीर बूढ़ा, उसका शरीर हड्ड़ीला और सीधा-सतर, त्वचा गहरी और क्लीन शेवन, रुपहले गोल फ़्रेम के चश्मे के पीछे उसकी लोलुप आँखें, रोमांटिक, पुराने फ़ैशन की मूँछें जिनकी नोंक मोम से सजी हुई। गंजी, चिकनी, चमकती खोपड़ी पर बचे-खुचे बाल बिलक्रीम की सहायता से सजाए हुए। उसकी मोहक और शिथिल अदा तत्काल लुभाती, खासकार स्त्रियों को। अपनी छियत्तर साल की उम्र को छिपाने के लिए उसने खूब सारा पैसा, वाक-विदग्धता और इच्छाशक्ति लगाई थी और एकांत में वह विश्वास करता कि उसने किसी भी अन्य व्यक्ति से ज्यादा लम्बे समय तक चुपचाप प्रेम किया है। उसका पहनावा भी उसकी तरह विचित्र है। वेस्ट के साथ एक गहरे रंग का सूट, सिल्क की एक बो-टाई, एक सेल्यूलाइड कॉलर, फ़ेल्ट हैट, चमकता हुआ एक काला छाता जिसे वह छड़ी के रूप में भी प्रयोग करता। – पुस्तक के अनुसार ) लेकिन लिखित शब्दों में पढ़े वर्णन के साथ आपकी, पाठक की कल्पना जुड़ी होती है, वहाँ उसका यह रूप गबता है। वही रूप-रंग जब परदे पर रूढ़ हो जाता है तो खटकता है। यही अंतर है साहित्य और सिनेमा का। सिनेमा चाक्षुक है अत: अधिक सावधानी की आवश्यकता है। यहीं निर्देशक चूक गया है।

पूरी फ़िल्म में एक बात बड़ी शिद्दत से नजर आती है और दर्शकों पर उतना अच्छा प्रभाव नहीं डालती है वह है हर स्त्री – चाहे वह किशोरी अमेरिका हो या फ़िर बूढ़ी फ़रमीना डाज़ा – का अपना वक्ष दिखाने को तत्पर रहना। हाँ, शुरु से अंत तक फ़रमीना डाज़ा के रूप में जिवोना मेजोगिओर्नो अपनी सुंदरता से, अपने अभिनय से लुभाती है। उसकी स्मित मन में गहरे उतर जाती है। उसके बैठने, चलने और खड़े रहने का अंदाज उसकी उच्च स्थिति और उसके आंतरिक गर्व को प्रदर्शित करता है। फ़्लोरेंटीनो अरीज़ा की माँ ट्रांसिटो अरीज़ा के रूप में ब्राज़ील की अभिनेत्री फ़र्नांडा मोंटेनेग्रो का अभिनय प्रभावित करता है। फ़रमीना डाज़ा की कजिन हिल्डेब्रांडा सेंचेज के रूप में सुंदरी काटालीना सैडीनो को देखना अपने आप में एक भिन्न अनुभव है। यह किशोरी एक शादीशुदा व्यक्ति के प्रेम में है। उसकी मासूमियत पर फ़िदा होने का मन करता है। डॉ. जुवेनल उर्बीनो के रूप में बेंजामिन ब्राट के लिए कुछ खास करने को न था। द विडो नजरेथ के रूप में एंजी सेपेडा जरूर परदे (स्क्रीन) को हिलाती है।

सिनेमेटोग्राफ़ी अवश्य प्रभावित करती है। घर, बोट की आंतरिक साज-सज्जा और बाह्य प्राकृतिक सौंदर्य को कैमरे की आँख से इतनी खूबसूरती से पकड़ने के लिए सिनेमेटोग्राफ़र एफ़ोंसो बीटो बधाई के पात्र हैं। मेग्डालेना नदी और सियेरा नेवादा डे सांता मार्टा की पर्वत शृंखला बहुत कम समय के लिए दीखती है पर अत्यंत सुंदर है। फ़िल्म की शूटिंग के लिए कोलम्बिया के ऐतिहासिक पुराने शहर कार्टाजेना के लोकेशन का प्रयोग हुआ है। घर और बोट की साज-सज्जा पात्रों की आर्थिक और सामाजिक स्थिति के अनुरूप है।

फ़िल्म की शुरुआत में जब क्रेडिट चल रहे होते हैं बहुत खूबसूरत ऐनीमेशन है। चटख रंगों में फ़ूलों का खिलना उनके प्ररोहों (टेंड्रिल्स) का सरसराते हुए आगे बढ़ा, विकसित होना और साथ में चलता संगीत। इसी तरह फ़िल्म की समाप्ति का ऐनीमेशान। दक्षिण अमेरिका के पर्यावरण और अरंगों का विशेष रूप से ध्यान रखते हुए, उनसे प्रेरित होकर इसे लंदन के एक ऐनीमेशन स्टूडियो वूडूडॉग’ ने तैयार किया है। संगीत इस फ़िल्म की जान है। क्यों न हों। संगीत लैटिन अमेरिका की प्रसिद्ध गायिका शकीरा ने दिया है। वे गैब्रियल गार्षा मार्केस की बहुत अच्छी दोस्त है। उन्होंने एक गाना लिखा भी है और गाया भी है। फ़िल्म को संगीत देने में शकीरा के साथ हैं अंटोनिओ पिंटो। क्रेडिट का ऐनीमेशन फ़िल्म के मूड को सेट कर देता है। दर्शक तभी जान जाता है कि वह एक रोमांटिक फ़िल्म देखने जा रहा है। फ़िल्म लैटिन अमेरिकन खास कर कोलम्बियन जीवन को बड़े मनोरंजक तरीके से प्रस्तुत करती है। स्पैनिश लोग हॉट ब्लडेड होते हैं। लड़ने, मरने-मारने को जितने उतारू उतना ही प्रेम करने को उद्दत। भारत के पंजाब प्रांत के लोगों की तरह वे जो भी करते हैं खूब शान-बान और आन से करते हैं।

लव इन द टाइम ऑफ़ कॉलरा’ फ़िल्म का स्क्रीनप्ले रोनांड हार्वुड ने तैयार किया है। स्क्रीनप्ले ठीकठाक है। साढ़े तीन सौ पन्नों के उपन्यास में पात्रों का जो मनोवैज्ञानिक चित्रण और विकास है उसे १३९ मिनट की फ़िल्म में समेटना संभव नहीं है। उपन्यास के कई महत्वपूर्ण अंशों को बिल्कुल छोड़ दिया गया है, जैसे लियोना कैसीयानी का प्रसंग, जैसे फ़रमीना डाज़ा का अपने पति की कब्र पर जाकर उसे एक-एक बात बताना, जैसे डॉ. जुवेनल उर्बीनो और फ़रमीना डाज़ा का गैस बैलून में पत्र लेकर उड़ना, बुढ़ापे में फ़रमीना डाज़ा का पति की सेवा करना, प्रकृति का मनुष्य द्वारा दोहन, प्रकृति का उजाड़ होते जाने, पर्यावरण प्रदूषण आदि, आदि। माइक औड्स्ले की एडीटिंग अच्छी है। फ़िल्म में एक बात और खटकती है वह है इसके पात्रों द्वारा बोली गई भाषा। फ़िल्म इंग्लिश भाषा में बनी है। यह फ़िल्म स्पैनिश भाषा में नहीं बनी है, इंग्लिश में डबिंग नहीं हुई है। फ़िर पात्र स्पैनिश लहजे (एक्सेंट) में इंग्लिश क्यों बोलते हैं? अगर फ़िल्म स्पैनिश भाषा मेम होती तो क्या पात्र किसी खास लहजे में बोलते या सहज-स्वाभिक स्पैनिश भाषा का प्रयोग करते?

१८८० से १९३० तक की अवधि को समेटे हुई लव इन द टाइम ऑफ़ कॉलरा’ फ़िल्म के विषय में मेरे मित्र कथाकार सूरज प्रकाश का कहना है कि यह उनकी पसंदीदा फ़िल्मों में से एक है। मेरा भी यही कहना है कि मुझे यह फ़िल्म बहुत अच्छी लगी। अगर ऊपर गिनाई गई कमजोरियाँ इसमें न होती तो यह अवश्य मेरी पसंदीदा फ़िल्मों की सूची में काफ़ी ऊपर स्थान पर होती जैसे कि मार्केस मेरे पसंदीदा लेखकों की सूची में पहले नम्बर पर आते हैं। यह मार्केस के उपन्यास पर हॉलीवुड स्टूडियो में बनी पहली फ़िल्म है जिसे लैटिन अमेरिकन या इटैलियन निर्देशकों ने नहीं बनाया है।

हॉलीवुड के निर्देशक बहुत कुशल होते हैं। इसके साथ ही उनकी एक सीमा है। एक खास तरह की सभ्यता-संस्कृति से ये निर्देशक बखूबी परिचित हैं। मगर इस खास दायरे के बाहर की सभ्यता-संस्कृति की या तो उन्हें पूरी जानकारी नहीं है या फ़िर वे उसे महत्व नहीं देना चाहते हैं। लैटिन अमेरिकी सभ्यता-संस्कृति अमेरिकी सभ्यता-संस्कृति से बहुत भिन्न है। यह बहुत समृद्ध है, इसकी बहुत सारी विशेषताएँ हैं। मार्केस का साहित्य इसकी बहुत ऑथेंटिक झलक देता है। लव इन द टाइम ऑफ़ कॉलरा’ फ़िल्म इस सभ्यता-संस्कृति की खुशबू को समेटने में समर्थ नहीं हो सकी है। हॉलीवुड के श्वेत निर्देशक अपने ही देश की अश्वेत सभ्यता-संस्कृति को पकड़ने में कई बार चूक जाते हैं। स्टीफ़न स्पियलबर्ग जिन्होंने बहुत उत्कृष्ट फ़िल्में बनाई हैं लेकिन जब वे एफ़्रो-अमेरिकन साहित्य से लेकर द कलर पर्पल’ पर फ़िल्म बनाते हैं तो उसके साथ न्याय नहीं कर पाते हैं। एलिस वॉकर का यह उपन्यास जिस संवेदनशीलता से रचा गया है स्टीफ़न स्पियलबर्ग ने यह फ़िल्म उतनी ही असंवेदनशीलता से बनाई गई है।

क्यों करते हैं हॉलीवुड के माइक नेवेल या स्टिफ़न स्लीयलबर्ग ऐसा खिलवाड़? क्यों दूसरों को कमतर दिखाते हैं? क्या यह हॉलीवुड श्वेत निर्देशकों का अहंकार है अथवा उनकी समझ की कमी? क्या यह उनकी अज्ञानता है या फ़िर उनका दंभ? यह शोध का विषय हो सकता है। अगर यह नासमझी है तो आज के जागरुक और वैश्विक युग में इस तरह की नासमझियाँ स्वीकार नहीं की जानी चाहिए। अगर यह झूठा दंभ है तब तो इसे कतई स्वीकार नहीं किया जाना चाहिए।
__________________________________

विजय शर्मा

संपर्क   १५१ न्यू बाराद्वारी, जमशेदपुर ८३१ ००१ फ़ोन: ०९४३०३८१७१८, ०९९५५०५४२७१, ०६५७-२४३६२५१


14 comments:

sarita sharma ने कहा…

शानदार उपन्यास पर बनी फिल्म की अद्भुत समीक्षा.मैंने यह फिल्म देखी है और उपन्यास पर लिखा भी है.मार्केज का कोई सानी नहीं. मौत और प्रेम, दोनों पर बहुत गंभीरता से लिखा है.भारतीय मानदंड से फिल्म कुछ बोल्ड लगती है मगर जिस जनता के लिए है उसे इस तरह की फिल्मों की आदत है.

Ramji Yadav ने कहा…

बहुत रोचक और समझदार आकलन । निश्चय काबिलेदाद है । विजय जी को बधाई और अशोक तथा असुविधा के प्रति आभार !

Ramji Yadav ने कहा…

बहुत रोचक और समझदार आकलन । निश्चय काबिलेदाद है । विजय जी को बधाई और अशोक तथा असुविधा के प्रति आभार !

ashutosh dubey ने कहा…

फिल्म देखी है. पर, लगता है हर निर्देशक में कुछ न कुछ कसर रह जाएगी अगर कृति मार्केस की हो. नरेशन के मुकाबले फिल्मांकन कमतर रह जाता है. फ्लोरेंतीनो एरीज़ा का उद्दाम आवेग, उसकी प्रतीक्षा, उसकी हिमाकतें और उसकी यातना - फिल्म अपने अनुभव में इन्हें शिद्दत से समेट नहीं पाती. या क्या पता, हमीं मार्केस के पक्षपाती हों !

आनंद कुमार द्विवेदी ने कहा…

विजय जी को पहले भी पढ़ चूका हूँ इनकी समीक्षाएं लाजबाब होती हैं आज एक नयी फिल्म से परिचय हुआ !

' मिसिर' ने कहा…

समीक्षा में फिल्म के लगभग सभी अंगों पर बड़ी कुशलता के साथ पुस्तक के सापेक्ष एक तुलनात्मक विवेचन किया गया है ...फिल्म और उपन्यास से समीक्षा के जरिये कुछ परिचय मिला ...आभार ।

Yashwant Mathur ने कहा…

आपने लिखा....हमने पढ़ा
और लोग भी पढ़ें;
इसलिए कल 16/05/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
धन्यवाद!

बेनामी ने कहा…

[p]Please use the little leather care oil [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags sale[/url] stick on a soft cloth, and then a little harder on the leather friction; matte leather maintenance, usually just gently wipe with a cloth, if serious dirt can try to rubber-like rubber gently wipe to remove . With tips: fluorescent green dress the white Martin shoes fluorescent yellow shoulder bag
The fluorescence green dress with white the Ying Lun Mading shoes, [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags[/url] plus a fluorescent yellow shoulder bag elegant temperament immediately apparent . Plus a fluorescent red packet, then evolved into the classic of classics, breaking the [url=http://www.lvbagssale.co.uk]discount lv bags[/url] old dim, and knocked color . First, the Louis Vuitton LV (1) Founder: Louis Vuitton Louis Vuitton (2) Registry: (Paris, France, 1854) (3) categories: leather [url=http://www.lvbagssale.co.uk]cheap lv bags[/url] goods, luggage, travel accessories, men's women's, scarves, penswatch today is still renowned international L and V with the flower pattern is created by his son George Vuitton . S e l e c t i o n o f w h i t e g o l d , r o s e g o l d f o r g i n g w i t h w o v e n i n l a y o n t h e t o p d i a m o n d , o r w i t h t h e s c a t t e r e d C h a 卯 n e d ' A n c r e a n c h o r c h a i n , e l e m e n t s c o h e s i o n b e a u t y . Not arbitrarily [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags online[/url] shoe polish . Louis Vuitton bags are classic.[/p]

Onkar ने कहा…

सटीक समीक्षा

बेनामी ने कहा…

[p]Best save in cotton generation [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags online[/url] do not put plastic square cow bag . Regardless lovely Meng sister, or temperament ladies, or noble ladies wind, all are applicable! Girls like to have something, Xiao Bian below to share [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags sale[/url] to you and fluorescent package with eight people, to draw from . 2, the closing bark products closet necessary to maintain good ventilation, [url=http://www.lvbagssale.co.uk]cheap lv bags[/url] while the cupboard is best not to put too many items . Dirt attached, gently with an eraser, the last colorless leather cream carefully painted . Easily Jing 5x1V qualitative [url=http://www.lvbagssale.co.uk]discount lv bags[/url] elastic fatigue . The [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags[/url] Bag Lady play, Spanish Company The Bag Lady Theatre, scheduled for this May 1 in the Republic of Croatia School of Punta Arenas was suspended . 7, leather goods such as produce stains black spots, may be tried alcohol swab material to stick to the same skin color . Whether you need a handbag scratched, or just a handbag you like, you have a wide choice available.[/p]

बेनामी ने कहा…

[p]Best save in cotton generation [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags online[/url] do not put plastic square cow bag . Regardless lovely Meng sister, or temperament ladies, or noble ladies wind, all are applicable! Girls like to have something, Xiao Bian below to share [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags sale[/url] to you and fluorescent package with eight people, to draw from . 2, the closing bark products closet necessary to maintain good ventilation, [url=http://www.lvbagssale.co.uk]cheap lv bags[/url] while the cupboard is best not to put too many items . Dirt attached, gently with an eraser, the last colorless leather cream carefully painted . Easily Jing 5x1V qualitative [url=http://www.lvbagssale.co.uk]discount lv bags[/url] elastic fatigue . The [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags[/url] Bag Lady play, Spanish Company The Bag Lady Theatre, scheduled for this May 1 in the Republic of Croatia School of Punta Arenas was suspended . 7, leather goods such as produce stains black spots, may be tried alcohol swab material to stick to the same skin color . Whether you need a handbag scratched, or just a handbag you like, you have a wide choice available.[/p]

बेनामी ने कहा…

[p]Best save in cotton generation [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags online[/url] do not put plastic square cow bag . Regardless lovely Meng sister, or temperament ladies, or noble ladies wind, all are applicable! Girls like to have something, Xiao Bian below to share [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags sale[/url] to you and fluorescent package with eight people, to draw from . 2, the closing bark products closet necessary to maintain good ventilation, [url=http://www.lvbagssale.co.uk]cheap lv bags[/url] while the cupboard is best not to put too many items . Dirt attached, gently with an eraser, the last colorless leather cream carefully painted . Easily Jing 5x1V qualitative [url=http://www.lvbagssale.co.uk]discount lv bags[/url] elastic fatigue . The [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags[/url] Bag Lady play, Spanish Company The Bag Lady Theatre, scheduled for this May 1 in the Republic of Croatia School of Punta Arenas was suspended . 7, leather goods such as produce stains black spots, may be tried alcohol swab material to stick to the same skin color . Whether you need a handbag scratched, or just a handbag you like, you have a wide choice available.[/p]

बेनामी ने कहा…

[p]Best save in cotton generation [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags online[/url] do not put plastic square cow bag . Regardless lovely Meng sister, or temperament ladies, or noble ladies wind, all are applicable! Girls like to have something, Xiao Bian below to share [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags sale[/url] to you and fluorescent package with eight people, to draw from . 2, the closing bark products closet necessary to maintain good ventilation, [url=http://www.lvbagssale.co.uk]cheap lv bags[/url] while the cupboard is best not to put too many items . Dirt attached, gently with an eraser, the last colorless leather cream carefully painted . Easily Jing 5x1V qualitative [url=http://www.lvbagssale.co.uk]discount lv bags[/url] elastic fatigue . The [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags[/url] Bag Lady play, Spanish Company The Bag Lady Theatre, scheduled for this May 1 in the Republic of Croatia School of Punta Arenas was suspended . 7, leather goods such as produce stains black spots, may be tried alcohol swab material to stick to the same skin color . Whether you need a handbag scratched, or just a handbag you like, you have a wide choice available.[/p]

बेनामी ने कहा…

[p]Best save in cotton generation [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags online[/url] do not put plastic square cow bag . Regardless lovely Meng sister, or temperament ladies, or noble ladies wind, all are applicable! Girls like to have something, Xiao Bian below to share [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags sale[/url] to you and fluorescent package with eight people, to draw from . 2, the closing bark products closet necessary to maintain good ventilation, [url=http://www.lvbagssale.co.uk]cheap lv bags[/url] while the cupboard is best not to put too many items . Dirt attached, gently with an eraser, the last colorless leather cream carefully painted . Easily Jing 5x1V qualitative [url=http://www.lvbagssale.co.uk]discount lv bags[/url] elastic fatigue . The [url=http://www.lvbagssale.co.uk]lv bags[/url] Bag Lady play, Spanish Company The Bag Lady Theatre, scheduled for this May 1 in the Republic of Croatia School of Punta Arenas was suspended . 7, leather goods such as produce stains black spots, may be tried alcohol swab material to stick to the same skin color . Whether you need a handbag scratched, or just a handbag you like, you have a wide choice available.[/p]

जिन्होंने सुविधा नहीं असुविधा चुनी!

फेसबुक से आये साथी

 
Copyright (c) 2010 असुविधा.... and Powered by Blogger.