अभी हाल में

:


विजेट आपके ब्लॉग पर

सोमवार, 30 सितंबर 2013

सुनो कि इस देश में कैसे मरता है किसान! - उमेश चौहान

किसानों की आत्महत्या हमारे समय की ऐसी परिघटना है जिसे लेकर राजनीतिक वर्ग से बौद्धिक वर्ग तक अपने आकस्मिक विलापों से आगे नहीं जा पाते. वरना जिस देश में लाखों किसान आत्महत्या कर चुके हैं और इस आंकड़े में रोज़ वृद्धि ज़ारी है, उस देश ने नीतियों को लेकर कोई पुनर्विचार न हो, यह कैसे संभव था? लगता है कि हम विकास और उसके परिणामों को शहरी उच्चवर्गीय अवधारणा मान चुके हैं और हमारी चिंताएं सेंसेक्स के गिरने-उठने से तय होती हैं, इनमें अब किसानों के जीने मरने के लिए कोई जगह नहीं है. लेकिन कविता का तो काम ही उस सच को कहना है जिसे दबाने की हरचंद कोशिश की जाती है. उमेश चौहान ने इस कविता में वही मुश्किल और असुविधाजनक सवाल पुरज़ोर तरीक़े से उठाया है.



सुनो, सुनो, सुनो!




पैदा हुए उन्नीस बोरे धान
मन में सज गए हज़ारों अरमान
लेकिन निर्मम था मण्डी का विधान
ऊपर था खुला आसमान
नीचे फटी कथरी में किसान
रहा वह कई दिनों तक परेशान
फिर भी नहीं बेंच पाया धान
भूखे-प्यासे गयी जान
सुनो यह दु:ख-भरी दास्तान!
सुनो कि इस देश में कैसे मरता है किसान!

मेरे देश के हुक़्मरानो!
यहाँ के आला अफ़सरानो!
गाँवों और किसानों के नुमाइन्दो!
चावल के स्वाद पर इतराने वाले
छोटे-बड़े शहरों के वाशिन्दो!
सुनो, सुनो, सुनो!
ध्यान लगाकर सुनो!
इस कृषि-प्रधान देश का यह दु:खद आख्यान सुनो!
कि पिछले महीने ओडिशा की मुंडरगुडा मंडी के खुले शेड में
सरकारी खरीदी के इंतज़ार में
भूखे-प्यासे अपने धान के बोरों की रखवाली करने को मजबूर
कालाहांडी के कर्ली गाँव का नबी दुर्गा
कैसे मर गया बेमौत
सुनो, सुनो, सुनो!

लेकिन रुको और गौर से सुनो नेपथ्य की यह आवाज़ भी
कि नबी दुर्गा वास्तव में मरा नहीं मारा गया
सच को स्वीकारने की इच्छा है तो सुनो!
सुनो, कि वह पीने का पानी खोजते-खोजते
मंडी के पड़ोस वाले घर तक पहुँचकर भी
प्यास से तड़पकर मर गया यह केवल आधा सच है
पूरा सच यही है कि उसे बड़ी बेदर्दी से मार डाला
हमारी गैर-संवेदनशील व्यवस्था ने
मेरी और आप सबकी निर्मम निस्संगता ने।  

यह देश की किसी मंडी का कोई इकलौता ज़ुर्म नहीं था
यह धान को बारिश के कहर से बचाने की
देश के किसी अकेले किसान की जद्दोज़हद नहीं थी
यह देश में सरकारी गल्ला-खरीदी की नाकामी की
कोई अपवाद घटना नहीं थी
यह महानगरों में हज़ारों करोड़ रुपयों के पुल बनाने वाले इस देश में
बिना किसी शेड के संचालित कोई इकलौती मंडी नहीं थी
यह पेशाबघर, खान-पान और पेयजल की सुविधा के बिना ही स्थापित
देश का कोई अकेला सरकारी सेवा-केन्द्र नहीं था
यह कोई अकेला वाकया नहीं था भारत का
जिसमें किसी सार्वजनिक जगह पर
अपने माल-असबाब की रखवाली करते-करते
भूख और प्यास से मर गया हो कोई इन्सान
नबी दुर्गा की मौत तो बस उसी तरह की लाचारी के माहौल में हुई
जिसमें इस देश में रोज़ बेमौत मरते हैं हज़ारों बदकिस्मत किसान।

उस दिन भूख-प्यास से न मरा होता तो
शायद सरकारी खरीदारों के निकम्मेपन के चलते
पानी बरसते ही धान के भीगकर सड़ जाने पर मर जाता नबी दुर्गा
या शायद तब,
जब खरीद के बाद उसके हाथ में थमा दिए जाते
उन्नीस के बजाय बस पन्द्रह बोरे धान के दाम
या फिर तब,
जब उसे एक हाथ से उन्नीस बोरे धान की कीमत का चेक देकर
दूसरे हाथ से वापस रखा लिया जाता
बीस फीसदी नकदी वापस निकाल लिए जाने का चेक
यदि नबी दुर्गा न भी मरा होता मंडी में उस दिन
और उसके साथ बिना बिके ही वापस लौट आए होते उसके धान के बोरे
तो शायद पूरा परिवार ही पीने के लिए मजबूर हो गया होता
खेत में छिड़कने के लिए उधार में लाकर रखी गई कीटनाशिनी।

सुनो, सुनो, सुनो!
यह दु:ख भरी दास्तान सुनो!
ओडिशा की ही नहीं,
झारखंड, आंध्र प्रदेश, बंगाल, असम, बिहार और उत्तर प्रदेश के
लाखों-लाख नबी दुर्गाओं की यह दु:ख-भरी कहानी सुनो!

पानी से भरे खेतों में खड़ी दोपहरी
कतारों में कमर झुकाए धान की रोपाई करती औरतों के
गायन के पीछे छिपी कंठ की आर्द्रता को सुनो!

हमारा पेट भरने को आतुर दानों से लदी
हवा में सम्मोहक खुशबू घोलती
धान की झुकी हुई बालियों की विनम्र सरसराहट को सुनो!

काट-पीटकर सुखाए गए दानों को बोरों में भर-भरकर
व्याही गई बेटी को विदा किए जाने के वक़्त से भी ज्यादा दु:खी मन से
मंडी में बेंचने के लिए ले जाते हुए किसानों के मन की व्यथा को सुनो!

धान के बिकने का इंतज़ार करती
बिस्तर से लगी किसान की बूढ़ी बीमार माँ की
प्रतीक्षा के अस्फुट स्वर को सुनो!
पैरों में चाँदी की नई पायलें पहनने को आतुर
किसान की पत्नी के मन में गूँजती रुन-झुन को सुनो!
महीनों से नया सलवार-सूट पहनने की आस लगाए बैठी
किसान की बेटी के दिल की हुलकार को सुनो!

चलो, अब पूरी संजीदगी से इन नबी दुर्गाओं से क्षमा माँगते हुए
और इस देश के किसी किसान को नबी दुर्गा न बनना पड़े
इसकी व्यवस्था सुनिश्चित कराने की लड़ाई लड़ने का संकल्प लेते हुए
इस दु:ख भरी दास्तान को बार-बार सुनो!

 -------------------------------------------------------

उमेश चौहान 

कवि और लेखक 
चार कविता संकलन, हाल में ज्ञानपीठ से आया संकलन 'जनतंत्र का अभिमन्यु' काफ़ी चर्चित. मलयालम से कई महत्त्वपूर्ण अनुवाद. महाकवि अक्कितम की अनुदित कविताओं का एक संकलन भी प्रकाशित. इन दिनों सामाजिक-आर्थिक विषयों पर एक दैनिक अखबार में कालम भी चर्चित.

संपर्क : umeshkschauhan@gmail.com

असुविधा पर पहले प्रकाशित रचनाएँ यहाँ क्लिक करके पढ़ सकते हैं.

15 comments:

शिरीष कुमार मौर्य ने कहा…

बहुत मार्मिक। बेधने वाली। लगता है कि इस प्रसंग पर हो रहे नुक्‍कड़ नाटक के बीच सन्‍न खड़ा हूं। उमेश जी इस कविता का यही शिल्‍प हो सकता है, यही शिल्‍प हुआ है। मैं इसे अपने मित्रों को भेज रहा हूं।

Manoj ने कहा…

सुंदर और तीखी अभिव्यक्ति... जरूरी कविता...

Umesh ने कहा…

धन्यवाद शिरीष भाई! यह सच्ची घटना मेरा दिल हिला गई।

Rajesh Kumari ने कहा…

आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १/१० /१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चामंच पर की जायेगी आपका वहां हार्दिक स्वागत है।

गिरिजा कुलश्रेष्ठ ने कहा…

मर्मबेधी कविता । किसान की पीडा तो इससे भी कहीं अधिक तीखी है ।

Digamber Ashu ने कहा…

हमारे समय की सच्चाई का मर्मभेदी बयान है यह...

Chandra Shekhar Kargeti ने कहा…

सच में दिल छू गई, समय के अनुसार जरूरी, काश सन्देश उन तक पहुँच पाता जो जिम्मेदार है !

Mahesh Chandra Punetha ने कहा…

यह कविता किसान श्रम की महत्ता ,उसकी विवशता,उसके अरमानों,उसकी चाहतों और उसकी त्रासदी का मर्मस्पर्शी आख्यान रचती है। इस कविता में रोपाई करती औरतों के कंठ की आर्द्रता,अन्न के दानों की खूशबू, बालियों की सरसराहट ,बीमार माँ के अस्फुट स्वर, पत्नी के मन की रून-झुन भरी गूँज ,बेटी की हुलकार को भी महसूस किया जा सकता है। किसान जीवन पर इतनी बहुआयामी कविता कम ही पढ़ने को मिलती हैं। इस कविता की सबसे बड़ी विशेषता यह लगी कि यह कविता केवल किसान के दुःख का ही बखान नहीं करती है बल्कि इसके खिलाफ लड़ाई लड़ने को आगे आने के लिए अपील भी करती है।
कैसी विडंबना है कि साल भर जाड़ा-गर्मी-बरसात सहकर कड़ी मेहनत करने और भरपूर फसल पैदा होने के बाद भी किसान को अपनी फसल बेचने के लिए परेशान होना पड़ता है। फसल बेचने के इंतजार में ही भूख-प्यास के चलते उसकी मौत हो जाती है। ऐसा अनर्थ तो पहले न कभी सुना और न देखा। इससे बड़ी दुःख की दास्तान क्या हो सकती है? यह कविता इस विडंबना को गहराई से उकेरती है। कवि का ’सुनो,सुनो,सुनो!’कहना इस हृदयविदारक दास्तान के प्रति ध्यान देने को बहरे सभ्य समाज को झकझोरना है जो सुनना ही नहीं चाहता है।कविता में बार-बार ’सुनो!’आना बिन कहे इस बात को कह देता है कि यह व्यवस्था बहरी है जिसे झकझोरना जरूरी है। यह ’सुनो’ कहना पाठक के मन-मस्तिष्क पर हथौड़े की तरह टंकार पैदा करता है जिसकी तरंग पूरे शरीर में दौड़ती हुई प्रतीत होती है।यह कविता शासकों-प्रशासकों और उन तमाम बुद्धिजीवियों ,सिविल सोसाइटी को जो किसान की इस स्थिति पर चुप्पी साधे हुए हैं ,को कटघरे में खड़ा करती है। कवि कालाहांडी के कर्ली गाँव के नवीदुर्गा के माध्यम से किसान जीवन की जिस व्यथा-कथा को व्यक्त करता है वह आज कालाहांडी के कर्ली गाँव तक ही सीमित नहीं है बल्कि वैश्वीकृत हो चुकी इस दुनिया के तीसरे देशों के हर सीमांत किसान की व्यथा-कथा है जिसके लिए विश्व व्यापार संघ की साम्राज्यवाद परस्त नई कृषि एवं वाणिज्य नीतियाँ जिम्मेदार हैं। इस नीति के चलते ही दुनिया भर के ’नवीदुर्गा’ बेमौत मरने के लिए अभिशप्त हैं या कहें मार दिये जा रहे हैं। हमारी गैर-संवेदनशील व्यवस्था इस अभिशाप की विभीषिका को और बढ़ाने का काम कर रही है। नवीदुर्गा का लाचारी के माहौल में मौत का यह इकलौता किस्सा नहीं है। देश भर के अलग-अलग हिस्सों में इसी तरह की लाचारियों- कभी फसल के भीगकर सड़ जाने,कभी लागत से कम कीमत पाने,कभी फसल के नहीं बिक पाने के चलते बेमौत मारे जाने वाले अनेकानेक किसानों के मार्मिक किस्से आये दिनों सुनाई देते हैं .यह कविता उन दिलदहलाने वाले किस्सों की ही अभिव्यक्ति है जो हमें इस अमानवीय स्थिति के खिलाफ खड़े होने के लिए तैयार करती है।

Laxman Bishnoi ने कहा…

बहुत ही मार्मिक रचना
कमलेश राजहंस जी की एक पंक्ति याद आ रही है
मेरे देश की सियासत मुर्दो का संदूक खा गई
जो भूख मिटाता है सबकी उस किसान को भूख खा गई
बचपन

Yashwant Yash ने कहा…

कल 03/10/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
धन्यवाद!

Kaushal Lal ने कहा…

सच्चाई का मर्मभेदी बयान....

HARSHVARDHAN ने कहा…

भावनात्मक रचना। आभार।।

नई कड़ियाँ : ब्लॉग से कमाने में सहायक हो सकती है ये वेबसाइट !!

ज्ञान - तथ्य ( भाग - 1 )

Onkar ने कहा…

यथार्थपूर्ण रचना

कालीपद प्रसाद ने कहा…

वास्तविक किसान और कृषि मजदुर की यही कहानी है ,शायद इस से भी दयनीय ,मर्मस्पर्शी l आपका प्रयास सराहनीय है l
नवीनतम पोस्ट मिट्टी का खिलौना !
नई पोस्ट साधू या शैतान

अमित कुमार झा ने कहा…

अन्नदाता किसान भूख-प्यास तथा ग़रीबी की मार झेलता असामयिक मृत्यु/ आत्महत्या की नियति को विवश हो, कृषि प्रधान देश का इससे बड़ा दुर्भाग्य नही हो सकता. सुनो, सुनो, सुनो! की गुहार लगाते किसान की करुन पुकार, उसके जीवन की उदास विवशता, मायूसियों में झूलती उसकी जिंदगी और सूनी जिंदगी की तरह आई सन्नाटेदार मौत की परतें उघाड़ती यह कविता संवेदनशील और अत्यंत मर्मस्पर्शी बन पड़ी है. तथाकथित सभ्य और आधुनिक समाज के चेहरे पर पड़े झन्नाटेदार थप्पड़ की तरह कविता यथास्थिति बदलने को उदबोधित भी करती है. सुंदर प्रस्तुति के लिए साधुवाद.

जिन्होंने सुविधा नहीं असुविधा चुनी!

फेसबुक से आये साथी

 
Copyright (c) 2010 असुविधा.... and Powered by Blogger.